कविता · Depression control · Feelings · Heart · Hindi · Letter · Life Experiences · Love · My words · Poetry · Poetry on life · Positive Thinking · Psychology · Relationship · Rewrite · Self Help · Self Love · Sentimental · Women

ख्वाहिश

दिल के किसी कोने में, एक ख्वाहिश दबी सी है तुमसे मिलने की, तुमसे कुछ सवाल करने की तुम्हारे कुछ सवाल सुनने की, बहुत कुछ है जो अनसुना सा है, कुछ तुम्हारे लिए, कुछ मेरे लिए बस एक शर्त है, अगर तुम मान सको तो, बस शून्य भाव हो आँखो में तुम्हारी, बस शून्य भाव… Continue reading ख्वाहिश

Depression control · Feelings · Heart · Inspiration · Life Experiences · Love · Moral · Motivation · My words · Poetry · Poetry on life · Positive Thinking · Psychology · Relationship · Rewrite · Self Help · Self Love · Sentimental · Stress · Women · Women's thought

Am I Still Existing?

Where should I start? Where should I go? Am I still existing? Am I still here? Do anyone see me? Why am I asking this? They don’t. Yes they don’t. When everything is new at sight, when you expect that everything will be bright and lite, but the shades become darker than black; and no… Continue reading Am I Still Existing?

कविता · Depression control · Feelings · Heart · Hindi · Inspiration · Life Experiences · Love · Motivation · Poetry · Poetry on life · Positive Thinking · Psychology · Rewrite · Self Help · Self Love · Sentimental · Stress

मेरे  ख़्वाबों  में  अक्सर  साये आते हैं

मेरे  ख़्वाबों  में  अक्सर  साये  आते  हैं   कुछ  धुंधले  से, कुछ  एकदम  साफ़  से कुछ  दूर  खड़े  कुछ  एकदम  पास  से कुछ  के   चहरे  नहीं  होते   कुछ  कुछ  नहीं  कहते कोई  कोई  नकाब पहन  कर  भी  आता  है और  कोई  सिर्फ  अपनी  आवाज़  ही  सुनाता  है   ये  सब  कभी  मेरे  पीछे  भागते  हैं और  कभी  मैं  इनके  पीछे  भागती हूँ   ना ये मेरे  करीब  पहुँच  पाते  हैं ना  मैं  इनके  करीब  पहुँच  पाती  हूँ कुछ  समय  के  लिए  हम  साथ  होते  है फिर  वो  भी  चले  जाते  हैं   और  मैं  भी  चला  जाती  हूँ हर  दिन  वो  भी  अलग  अलग  आते  हैं और  मैं  भी  बदला  बदला  सा  जाती  हूँ हमेशा  वो बिन  बुलाए  ही  आते  हैं बस  कुछ  एक  को  कभी  कभी   मैं  खुद  ही  बुला  लाती  हूँ   ये  साये  ज़िन्दगी  के   किरदार  से  ही  लगते  हैं मुझे कुछ  समय  बाद  सब  बदल  जाते  हैं मेरे  ख़्वाबों  में  अक्सर  साये  आते  हैं मेरी  ज़िन्दगी  में  अक्सर  साये  आते  हैं!!   Visit my store at https://m.facebook.com/fashionfiestainsta/?ref=bookmarks

Daughter · Hindi · Inspiration · Life Experiences · Moral · Mother · Poetry · Relationship · Self Help

हम कलियाँ हैं उस बगिया की

Today I am sharing one of my hindi poetry. Hope you all like it too. ​हम कलियाँ हैं उस बगिया की, जिसे मायका कहते हैं ... जब जब हम खिलती हैं वहाँ, कभी खुशबू बिखर जाती है तो कभी छाँट दी जाती है | कभी लक्ष्मी कहलाकर माँ को सम्मान दिलाती हैं तो कभी बोझ… Continue reading हम कलियाँ हैं उस बगिया की